इमाम हुसैन ने जो शहादत दी उसकी कोई मिसाल नहीं : मौलाना सैयद अली अब्बास

जौनपुर। सिराजे हिंद की गंगा जमुनी तहजीब को अपने आगोश में समेटे और हिंदू मुस्लिम एकता की प्रतीक अहियापुर इमाम दरगाह के तत्वाधान में कर्बला के प्यासे शहीदों की याद में सबिहे जुलजना व ताबूत अल मुबारक निकाला गया जुलूस में आये सेवागारो ने कोविड-19 का पालन करते हुए अंजुमन शमशीर ए हैदरी सदर इमामबाड़ा नौहा ख्वानी मातम कर आंसुओं का नजराना इमाम हुसैन को पेश किया। अंत में मौलाना अली अब्बास ने खिताब करते हुए कर्बला के दिल सोच मंजर को ऐसा दर्शाया कि चारों ओर से लोग चीख पुकार करने लगे मौलाना ने कहा कि इंसान को अपनी लीडर पढ़े लिखे लोगों और इंसान पसंद लोगों को चुनना चाहिए। जिससे वह लीडर इंसान को सही रास्ता दिखा सके। मजलिस के बाद सबिहे ताबूत बरामद हुआ। अंत में सैयद हातिम अली ने लोगों का आभार प्रकट किया। इस दौरान सबीहुल हसन मुशाहिद हुसैन जैगम अब्बास मेराज अली आरिफ रिजवी शरीफ रिजवी जुल्फिकार अली सैफ अली आदि मौजूद रहे.

Related

news 2077518995068434421

एक टिप्पणी भेजें

emo-but-icon


जौनपुर का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टल

आज की खबरे

साप्ताहिक

सुझाव

संचालक,राजेश श्रीवास्तव ,रिपोर्टर एनडी टीवी जौनपुर,9415255371

जौनपुर के ऐतिहासिक स्थल

item