संघर्षो की भठ्ठी से दहकर शोला बनी उषा मौया, कड़ाके की ठण्ड में विपक्षियो को छूटने लगे पसीने

जौनपुर। सपा के पूर्व कद्दावर मंत्री व पूर्वाचंल के मिनी मुख्यमंत्री के रूप पहचान बनाने वाले नेता की जबड़े से अपनी करोडो की जमीन वापस लेने वाली व संघर्षो की भठ्ठी से दहकती अपनी बेटी उजाला के साथ राजनीति में कदम रखने वाली उषा मौर्या आज खुद कुशल नेता हो गयी है। 2022 के चुनाव के ठीक पहले भाजपा की जन विश्वास यात्रा में आज मां बेटी के संघर्षो के अनुभव का गवाह बन गया चैकियां सब्जी मण्डी के पास स्थित धनेपुर चैराहे , इस इलाके में हर तरफ भगवा रंग में खिला कमल वाला झण्डा फहरा रहा था। कड़ाके की ठण्ड में सैकड़ो महिेलाएं हाथो में झण्डा लिए जय श्रीराम का उद्घोष कर रही थी। 

शायद इन मां बेटी पर प्रभु का भी आर्शीवाद है कि जब यह यात्रा धनेपुर चौराहे पर पहुंचा तो भगवान भष्कर ने अपनी आंखे खोल दिया। चंद मिनट पहले तक घने बादलो के बीच शीतलहर चल रही थी लेकिन जैसे यहां बीजेपी का कारवां धनेपुर चौराहे पर पहुंचा तो खिलकर धूप निकल आयी। जिसका परिणाम रहा कि उषा मौर्या के समर्थन आयी बुजुर्ग महिलाओं में जोश आ गया। सभी भाजपा के पक्ष जबदरस्त नारे बाजी करने लगी। 

हलांकि पार्टी के कुछ मठाधीश अपनी शाख गिरने के भय से मुख्य अतिथि डिप्टी सीएम केशव मौर्या को इस यात्रा में शामिल होने का षड़यंत्र करके उन्हे पुलिस लाइन से ले जाकर गेस्ट हाउस में रोक दिया। क्यो कि उन्हे यह डर था कि यह नजारा खुद डिप्टी सीएम देख लेते  तो शायद उनके नजर में हवा हवाई नेताजी कद कम हो जाता। 

तमाम लोगो से हुई बातचीत में यह पता चला कि  सपा समेत अन्य पार्टियों से दावेदारी करने वाले प्रत्याशी उषा मौर्या से घबरा रहे। सभी को यह भय है कि यदि बीजेपी ने उषा को मैदान में उतार दिया तो लड़ाई काफी कठिन हो जायेगी। 


Related

news 6086722020954099724

एक टिप्पणी भेजें

emo-but-icon


जौनपुर का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टल

आज की खबरे

साप्ताहिक

सुझाव

संचालक,राजेश श्रीवास्तव ,रिपोर्टर एनडी टीवी जौनपुर,9415255371

जौनपुर के ऐतिहासिक स्थल

item