नसबंदी करने के मामले में जौनपुर रहा अव्वल

जौनपुर। हेल्थ मैनेजमेंट इनफार्मेशन सिस्टम (एचएमआईएस) की ओर से जारी फरवरी 2022 आंकड़ों ने परिवार नियोजन के साधनों को अपनाने के मामले में जनपद की बहुत ही अच्छी तस्वीर प्रस्तुत की है। 

 परिवार कल्याण कार्यक्रम के नोडल अधिकारी व अपर मुख्य चिकित्साधिकारी (एसीएमओ) डॉ राजीव कुमार ने बताया कि 2022 के लिए अनुमानित वार्षिक लक्ष्य 38 पुरुष नसबंदी के लक्ष्य के सापेक्ष फरवरी 2021 तक 72 पुरुष नसबंदी तथा फरवरी 2022 तक 72 पुरुष नसबंदी हुई जो कि लक्ष्य के सापेक्ष 189 प्रतिशत की उपलब्धि है। 10,000 वार्षिक महिला नसबंदी के लक्ष्य के सापेक्ष फरवरी 2021 तक 9,494 तथा फरवरी 2022 तक 8,055 महिला नसबंदी हुई जो कि निर्धारित लक्ष्य का 81 प्रतिशत है। 11,000 वार्षिक आयूसीडी के लक्ष्य के सापेक्ष फरवरी 2021 तक 4,748 तथा फरवरी 2022 तक 11,840 आयूसीडी लाभार्थियों तक पहुंचाई गई जो कि निर्धारित लक्ष्य का 108 प्रतिशत है। निर्धारित वार्षिक लक्ष्य 9,500 के सापेक्ष फरवरी 2021 तक 5,996 तथा फरवरी 2022 तक 13,137 पीपीआईयूसीडी उपलब्ध कराई गई जो कि निर्धारित लक्ष्य का 138 प्रतिशत है। निर्धारित वार्षिक लक्ष्य 5,000 के सापेक्ष फरवरी 2021 तक 4,084 अंतरा तथा फरवरी 2022 तक 17,656 त्रयमासिक अंतरा इंजेक्शन लगाए गए जो कि लक्ष्य का 353 प्रतिशत है। 20,000 वार्षिक लक्ष्य के सापेक्ष फरवरी 2021 तक 10,548 गर्भ निरोधक गोली छाया उपलब्ध कराई गई जबकि फरवरी 2022 तक 31,474 छाया उपलब्ध कराई गई जो कि निर्धारित लक्ष्य का 157 प्रतिशत है। 
मुख्य चिकित्साधिकारी (सीएमओ) डॉ लक्ष्मी सिंह तथा एसीएमओ डॉ राजीव कुमार ने इसके लिए स्वास्थ्य विभाग की टीम को बधाई दी है। स्वास्थ्य उपकेंद्रों पर भी मिलेंगी परिवार नियोजन की सेवाएं - सीएमओ डॉ लक्ष्मी सिंह ने जिले के सभी सामुदायिक व प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों (सीएचसी व पीएचसी) के अधीक्षकों तथा प्रभारी चिकित्साधिकारियों को पत्र जारी कर परिवार कल्याण कार्यक्रम के अंतर्गत चिह्नित स्वास्थ्य इकाइयों पर परिवार नियोजन की सेवाएं उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं। पत्र में सीएमओ ने कहा है कि सभी स्वास्थ्य इकाइयों और उपकेंद्रों पर जहां प्रसव हो रहे हैं वहां पर प्रसव के सापेक्ष 30 प्रतिशत पीपीआईयूसीडी लगाया जाना सुनिश्चित करें। जनपद में जून 2022 तक 56 स्वास्थ्य इकाइयों (पीएचसी, सीएचसी तथा हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर) को चिह्नित किया गया है। इन स्वास्थ्य इकाइयों पर पोस्ट पार्टम इंट्रा यूट्राइन कांट्रासेप्टिक डिवाइस (पीपीआईयूसीडी), इंट्रा यूट्राइन कांट्रासेप्टिक डिवाइस (आईयूसीडी), अंतरा के साथ-साथ परिवार नियोजन संबंधित अन्य सेवाएं (छाया, माला-एन, कंडोम एवं इमरजेंसी कांट्रासेप्टिक (ईसी) पिल्स) शत प्रतिशत सेवा दिलाना सुनिश्चित करें। साथ ही प्रत्येक माह हेल्थ मैनेजमेंट इनफार्मेशन सिस्टम (एचएमआईएस) पोर्टल पर दी गई सेवाओं की इंट्री सुनिश्चित की जाए। अंतरा और छाया अब सभी उपकेंद्रों पर - परिवार कल्याण कार्यक्रम के नोडल अधिकारी व अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ राजीव कुमार ने बताया कि जिले में अभी तक 25 सीएचसी/पीएचसी पर त्रैमासिक गर्भनिरोधक इंजेक्शन अंतरा और साप्ताहिक गर्भ निरोधक गोली छाया उपलब्ध थी। अब सभी उपकेंद्रों तथा सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों पर भी यह सुविधा मिलेगी, जहां प्रशिक्षित सेवा प्रदाता उपलब्ध हैं। नोडल अधिकारी ने बताया कि अनचाहे गर्भ से बचने के लिए साप्ताहिक गर्भ निरोधक गोली छाया भी एक कारगर उपाय है। इसमें उत्तर प्रदेश टेक्निकल सपोर्ट यूनिट (यूपीटीएसयू) द्वारा तकनीकी सहयोग किया जा रहा है।

Related

जौनपुर 6014737608625480045

एक टिप्पणी भेजें

emo-but-icon


जौनपुर का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टल

आज की खबरे

साप्ताहिक

सुझाव

संचालक,राजेश श्रीवास्तव ,रिपोर्टर एनडी टीवी जौनपुर,9415255371

जौनपुर के ऐतिहासिक स्थल

item