ग्राम रोजगार सेवकों ने मांगों के समर्थन में भरी हुंकार

 जौनपुर। उत्तर प्रदेश ग्राम रोजगार सेवक संघ के बैनर तले सोमवार को ग्राम रोजगार सेवकों ने डीएम मनीष वर्मा को एक मांग पत्र सौंपा । जिसे उन्होंने अति शीघ्र निस्तारित कराने का भरोसा दिया। संगठन के जिलाध्यक्ष लक्ष्मी नारायण चौरसिया ने ज्ञापन के माध्यम से बताया कि ग्राम रोजगार सेवक को समेत मनरेगा के अन्य समस्त कर्मियों की ईपीएफ धनराशि कटौती किए जाने के बाद भी उनके निजी खाते में न भेजने से खासी नाराजगी बढ़ रही है। 

उन्होंने कहा कि शासन के विशेष निर्देश पर वर्ष 2019-20 में जिले भर के सभी संविदा कर्मियों का इपीएफ का खाता खुलवाया गया था। इसके बाद अप्रैल 2020 से प्रतिमाह मिलने वाले मानदेय से नियमित तौर पर जिले के सभी ब्लॉक स्तर से कटौती की गई। परंतु किसी भी संविदा कर्मी के जरूरत पर ईपीएफ से काटी गई राशि की रकम उसके निजी खाते में अन्तरित नहीं कि गई। ऐसी घोर लापरवाही तब है जब जिले में आधा दर्जन संविदा कर्मियों की मौत हो चुकी है। उधर रकम काटे जाने के बाद भी संबंधित संविदा कर्मियों के परिवारजनों को किसी प्रकार की राशि न मिलने से उनके परिवार की आर्थिक स्थिति बेहद ही खराब हो गई है। 

संगठन के जिलाध्यक्ष लक्ष्मी नारायण चौरसिया ने जिलाधिकारी को अवगत कराया कि इस संबंध में जब गहराई से जांच पड़ताल की गई तो विकास भवन स्थित मनरेगा सेल से बताया गया कि जिले भर के संविदा कर्मियों की ईपीएफ से काटी गई करोड़ों रुपये की राशि 21 विकास खंड कार्यालयों को स्थानांतरित कर दी गई है। ऐसे में जरूरत है कि उक्त मामले की जांच करके संबंधित दोषी अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की जाए। और काटी राशि संबंधित कर्मियों के खाते में भेजी जाए। मौके पर संगठन के संरक्षक राकेश कुमार श्रीवास्तव, जिला महामंत्री राकेश कुमार व करंजकला ब्लॉक अध्यक्ष बृजेश कुमार मौर्य अन्य उपस्थित रहे।

Related

news 5830764350245299253

एक टिप्पणी भेजें

emo-but-icon


जौनपुर का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टल

आज की खबरे

साप्ताहिक

सुझाव

संचालक,राजेश श्रीवास्तव ,रिपोर्टर एनडी टीवी जौनपुर,9415255371

जौनपुर के ऐतिहासिक स्थल

item