नामी गिरामी मिठाई के दुकानदार बेच रहे है कैंसर, हाइपरटेंशन और अल्जाइमर बीमारी !

रजनीश राय सीआरओ 
जौनपुर। जिले के नामी गिरामी दुकानदारो के साथ अन्य मिष्ठान एवं जलपान बिक्रेता खाने पीने के समानों के साथ स्वीट प्वाइंजन बेच रहे है। यह दावा है मुख्य राजस्व अधिकारी रजनीश राय का। सीआरओ ने कहा कि विभिन्न खाद्य सामाग्री के दुकानदारो द्वारा बार बार तेल फ्राई किया जाता है जबकि तीन बार से अधिक कुकिंग आयल को फ्राई करने पर टोटल पोलर कम्पाउण्ड 25 प्रतिशत से अधिक हो जाता है। इस आयल से बने पकवानो को खाने से कैंसर, हाइपरटेंशन और अल्जाइमर बीमारी होने का खतरा बढ़ जाता है। श्री राय ने इन दुकानदारो में देश भर में प्रसिध्द बेनीराम की इमरती को भी शामिल किया है । हलांकि बेनीराम की दुकान पर बिकने सभी खाद्य प्रदार्थ देशी घी से निर्मित होने का दावा इस फर्म के अधिष्ठाता द्वारा किया जाता है।  

मुख्य राजस्व अधिकारी ने बताया कि खाद्य समाग्री को स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होने से बचाने के लिए भारत सरकार ने सन् 2018 में राष्ट्रीय बॉयो केन्द्र पालिसी बनायी है यह मानक पूरे देश में प्रभावी है। यह राजपत्र में प्रकाशित हुआ है। उन्होने खेद प्रकट करते हुए कहा कि जनपद के व्यवसायिक इन मानको का पालन नही कर रहे है और भारत के खाद्य सुरक्षा एवं मानक प्राधिकरण की अधिसूचना का भी पालन नही कर रहे है। जबकि भारत के राजपत्र में यह स्पष्ट रूप से निर्धारित किया गया है कि ऐसे वनस्पति खाद्य तेल जिसमें कुल टोटल पोलर कम्पाउण्ड 25 फीसदी से अधिक विकसित हो गया है उसका उपयोग नही किया जाय। क्योकि उनके उपयोग करने से मनुष्य को अनेक गम्भीर बीमारी होने की सम्भावना है। सीआरओं ने कहा कि किसी भी खाद्य तेल में तीन बार फ्राई करने पर तेल पोलर कम्पाउण्ड 25 प्रतिशत से अधिक हो जाता है। भारत सरकार ने यह व्यवस्था दिया है कि खाद्य तेल को तीन बार के बाद उपयोग न करके बल्की इस तेल से आरयूसीओं अभियान के तहत हरित ईधन बनाया जाय। इसके लिए राष्ट्रीय स्तर पर पॉलिसी बनाई गई है कि एजेंसी नियुक्त की गई है। लेकिन दुकानदारो के असहयोग के कारण स्वास्थ्य एवं पर्यावरण के लिए बनी आरयूसीओं अभियान परवान नही चढ़ पा रही है। 

राजनीश राय ने साफ कहा कि स्थानीय स्तर पर बेनीराम इमरती के नाम पर प्रसिध्द प्रतिष्ठान है इसके भी अधिष्ठाता आरयूसीओ अभियान के अतंर्गत अत्यधिक खाद्य कारोबारी के रूप में माने जाते है,लेकिन इन लोगो द्वारा एफ एस एस ए आई के दिशा निर्देशों का पालन नही किया जा रहा है और कुकिंग आयल के रूप में जो इमरती तली जाती है तथा जो तेल जल जाता है उसकी जगह जले तेल में पुनः नया तेल मिला दिया जाता है। जबकि पुराने तेल में टोटल पोलर कम्पाउण्ड 25 प्रतिशत से अधिक हो जाते है। जो मानव जीवन के लिए हानिकारक है। उन्होने दुकानदारो से अपील किया कि वे लोग मिठाई के नाम पर जहरीली वस्तु न बेचे। 

हालांकि उन्होने बेनीराम की शाही पुल वाली दुकान पर काफी हद तक मानक का पालन करने बात कही है। उधर बेनीराम के सभी प्रतिष्ठान के अधिष्ठाता अपनी दुकान पर केवल देशी घी से निर्मित समान बेचने का दावा करते है। 


Related

news 2691628138473769545

एक टिप्पणी भेजें

emo-but-icon


जौनपुर का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टल

आज की खबरे

साप्ताहिक

सुझाव

संचालक,राजेश श्रीवास्तव ,रिपोर्टर एनडी टीवी जौनपुर,9415255371

जौनपुर के ऐतिहासिक स्थल

item