जेल से छूटने के बाद सन्त लाल बोले : सत्य परेशान हो सकता है, मगर पराजित नहीं

 जौनपुर। जनपद के वरिष्ठ समाजसेवी एवं आबकारी प्रतिष्ठान के संचालक सन्त लाल जायसवाल को उच्च न्यायालय लखनऊ से जमानत मिल गयी जिसकी जानकारी होने पर उनके शुभचिन्तकों में खुशी की लहर दौड़ गयी। मालूम हो कि श्री जायसवाल शराब फैक्ट्री सहारनपुर के टपरी प्रकरण में वांछित चल रहे थे जिसके बाबत उन्होंने बीते 13 अक्टूबर को एसआईटी के समक्ष लखनऊ में आत्मसमर्पण कर दिया था। 

उच्च न्यायालय बेंच (एसआईटी स्पेशल कोर्ट) द्वारा पूरे प्रकरण की विवेचना की गयी जिसमें जौनपुर के बड़े शराब कारोबारी व थोक विक्रेता श्री जायसवाल पर कुछ पुख्ता सबूत न मिलने पर उच्च न्यायालय ने श्री जायसवाल द्वारा दी गयी प्रार्थना पत्र पर जमानत दे दिया। जमानत मंजूरी पर उनके शुभचिन्तकों में खुशी की लहर दौड़ गयी। बता दें कि श्री जायसवाल पूर्वांचल में अपनी एक अलग व अमिट छाप के रूप में जाने जाते हैं जो विगत 35 वर्षों से आबकारी प्रतिष्ठान व थोक विक्रेता के रूप में कार्य कर रहे हैं। इतना ही नहीं, एक समाजसेवी के रूप में श्री जायसवाल विभिन्न धार्मिक, सामाजिक आदि कार्यों में बढ़-चढ़कर हिस्सा लेते हैं। हर धर्म, जाति, वर्ग आदि के साथ उनका दुख-सुख का साथ है। इस बाबत पूछे जाने पर श्री जायसवाल ने कहा कि सत्य परेशान हो सकता है लेकिन पराजित नहीं हो सकता है। किसी भी लड़ाई में अंततः सत्य की ही जीत होती है। लोगों के प्यार, सहयोग, स्नेह, आशीर्वाद की देन है कि आज पुनः अपने लोगों के बीच में आ गया हूं। फिलहाल न्यायालय का सम्मान करता हूं।

Related

news 7230393474423839712

एक टिप्पणी भेजें

emo-but-icon


जौनपुर का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टल

आज की खबरे

साप्ताहिक

सुझाव

संचालक,राजेश श्रीवास्तव ,रिपोर्टर एनडी टीवी जौनपुर,9415255371

जौनपुर के ऐतिहासिक स्थल

item