जौनपुर के प्राथमिक विद्यालय के शिक्षक, शिक्षिकाओं ने रच दिया नया इतिहास, पूरे यूपी में हो रही तारीफ, आप भी देखिए पूरी फिल्म

 जौनपुर। शिराज ए हिन्द सरजमी के प्राथमिक विद्यालय के शिक्षक, शिक्षिकाओं, छात्राओं व अभिभावको ने बुनियादी शिक्षा जगत में नया इतिहास लिख दिया। इन सभी लोगो ने मिलकर बेटियों को प्रेरित करने व लिंगभेद रखने वाले अभिभावको को प्रेरित करने वाली एक फिल्म निर्माण कर दिया। करीब डेढ़ घंटे की इस फिल्म में एक पैसे भी खर्च नही हुआ। इस फिल्म में सभी किरदार प्राथमिक विद्यालय के टीचर्स और स्टूडेंट्स ने निभायी है । पूरे पिक्चर की स्क्रिप्ट , रिकार्डिगं व एडिटिंग शिक्षक शिवम सिंह  ने ही किया है। "हमार बिटिया- हमार मान" नामक यह फ़िल्म शनिवार की देर शाम रिलिज होते ही सोशल मीडिया पर धूम मचा दिया है। 

बच्चों में अभिनय कौशल के माध्यम से कई कौशलों के विकास हेतु सिकरारा के खपरहां न्याय पंचायत के परिषदीय विद्यालय के शिक्षकों ने मिशन शक्ति पर आधारित "हमार बिटिया- हमार मान" नामक फ़िल्म रिलीस हुई। मिशन शिक्षण संवाद के अंतर्गत बनी है जो अपने में जहाँ मिशन शक्ति को समाहित करती है तो वहीं समाज की अनेक विसंगतियों को भी साथ साथ लिये आराम से चलती नज़र आती है। यह शून्य बजट की फिल्म बेसिक शिक्षा परिषद की मंशा को पूर्ण रूपेण अपने साथ समेटे हुए अध्यापकों, बच्चों से अभिनीत है। क्षेत्रीय भाषा की प्रधानता लिये हमार बिटिया- हमार मान उत्तर प्रदेश के जनपद जौनपुर के विकास खण्ड- सिकरारा में न्याय पंचायत खपरहा के बढ़ते कदम को दर्शाती है। शिक्षक समाज का अहम हिस्सा होते हैं और यह फिल्म इस बात को सिद्ध भी करती है। यह फिल्म बेसिक के ऊर्जावान शिक्षक शिवम सिंह द्वारा निर्देशित जिसे उन्होंने मोबाइल के माध्यम से शूटकर के बनाया व प्रेम तिवारी द्वारा लिखी गयी है। इसमें प्रदेश के अनेक जनपदों के शिक्षकों का अमूल्य योगदान रहा है। यह फिल्म समाज में बेटियों के प्रति आई सजगता को और बढ़ाने का प्रयास करती है तथा उनके प्रति समाज की महत्वपूर्ण जिम्मेदारी से भी अवगत कराती है। 
यह फिल्म “बेसिक शिक्षा परिषद” द्वारा किये गए सफल प्रयासों की सराहना करती है तो मनीषियों का आशीर्वाद लेकर अनेक अनछुये पक्षों को बड़े आदर पूर्वक प्रस्तुत करने का प्रयास भी करती है। इस फिल्म में कोई भी पक्ष नहीं छोड़ा गया है जैसे गरीबी, मजबूरी, विवशता, सहायता, सम्मान। हमार बिटिया- हमार मान केवल फिल्म नहीं बल्कि एक विचार है जिसे विश्व पटल पर देखे जाने व समझे जाने की आवश्यकता है। 
इस फिल्म में उठे मुद्दे समाज की हर समस्या को इंगित करते हुए शिक्षा पर अपना महत्वपूर्ण संदेश देते हैं। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी प्रवीण कुमार तिवारी जी ने शुभकामनाएं दी तथा इसके उद्देश्य समाज को एक नई दिशा दे इसकी कामना की। सिकरारा के खंड शिक्षा अधिकारी राजीव यादव ने भी इसमे अपने ही किरदार निभाया है। इस फिल्म की मुख्य अभिनेत्रियां दिव्या गौड़ (विद्यार्थी), निशी मिश्रा ( विधार्थी), शिक्षिका अभिनेत्रियां उत्तमा चतुर्वेदी, सीमा उपाध्याय, अनम सफीर, कुसुम मिश्रा, अनीता यादव, बबिता यादव, गीता यादव( फतेहपुर ) व अभिनेतागण वीरेंद्र सिंह, मुकेश दुबे, शिवम् सिंह, राकेश सिंह, आशीष मौर्या,सुरेश यादव, रमेश यादव, रमेश सागर(बदलापुर), अखिलेश पांडेय( प्रतापगढ़), अवनीश चतुर्वेदी और अभिभावक गण ने निभाया।

पूरी फिल्म देखिये 

Related

news 6217941704615249949

एक टिप्पणी भेजें

  1. समाज के लिए बहुत ही प्रेरणा स्रोत है।

    जवाब देंहटाएं
  2. समाज के लिए प्रेरणादायी एवं सुन्दर प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं
  3. यह फिल्म ग्रामीण समाज की रुढियों व पुरानी परम्पराओं, विशेष रूप से लड़की और लड़का के बीच मतभेद कों व गलत नजरिया कों पीछे छोड़ते हुए कहीं एक समान रूप से आगे समग्र विकास मे सहायक होगी ❤️❤️

    जवाब देंहटाएं
  4. यह फिल्म (हमार बिटिया, हमार मान) मिशन शिक्षण संवाद के अन्तर्गत मिशन शक्ति को समाहित करते हुए समाज में लड़के लड़कियों में भेद भाव को दूर करने में बहुत ही सहायक सिद्ध होगी। ऐसा मेरा विश्वास है। ❤❤🌹🌹🌹👌👌👌👌🙏🙏🙏🙏🙏

    जवाब देंहटाएं
  5. अद्भुत कार्य किया है, बेटी बेटा एक समान के संदेश को चरितार्थ करते हुए।

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत ही सराहनीय कदम । आप सभी को ढेरों शुभकामनाएं।

    जवाब देंहटाएं
  7. बहुत ही सराहनीय कार्य

    जवाब देंहटाएं
  8. अभिनंदन वंदन बहुत ही सराहनीय प्रयास

    जवाब देंहटाएं
  9. प्रशन्सनिय प्रयास ll
    Guru govind dou Khade kako Lage Paye balihari Guru aapne Govind diyo Bataye"

    जवाब देंहटाएं
  10. Koun kahta hai ki sarkari schoolo me padai Nahi hoti. Aap sath deker dekhe

    जवाब देंहटाएं
  11. बहुत ही अच्छी फिल्म बनाई है आप लोगों कि पूरी टीम को हार्दिक शुभकामनाएं बधाई। समाज में एक जो धारणा फैली है कि सरकारी विद्यालयों में पढ़ाई नहीं होती उस पर कुठाराघात करते हुए लिंग भेद को दूर करने की जो बात आपने इस फिल्म में कही है वह बहुत ही अच्छे ढंग से आप लोगों ने प्रस्तुत किया है।

    जवाब देंहटाएं
  12. समाज मे फैली सरकारी विद्यालयों की धूमिल छवि एवम लिंग भेद पर कुठाराघात करती यह फिल्म की सुंदर प्रस्तुति ।यह फिल्म समाज को एक दिशा प्रदान करेगी ।
    सभी शिक्षक कलाकार साथियो को बधाई एवम शुभकामनाएं।

    जवाब देंहटाएं
  13. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति,समाज के लिए प्रेरक। सादर अभिनंदन

    जवाब देंहटाएं

emo-but-icon


जौनपुर का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टल

आज की खबरे

साप्ताहिक

सुझाव

संचालक,राजेश श्रीवास्तव ,रिपोर्टर एनडी टीवी जौनपुर,9415255371

जौनपुर के ऐतिहासिक स्थल

item