बचे तो अगले बरस हम हैं और ये ग़म फिर है.......

 जौनपुर। शुक्रवार को पूरे जिले में  यौमें आशूरा गमगीन माहौल में मनाया गया। कोविड-19 के चलते इस साल भी जुलूस निकालने की इजाजत शासन प्रशासन से नहीं मिली थी इसलिए  अजादारों ने अपने अपने अज़ाखानों में रखे ताजियों को कोविड-19 का पालन करते हुए स्थानीय कर्बला में सुपुर्द- ए -खाक कर दिया। इस दौरान शहर में सुरक्षा व्यवस्था चाक-चौबंद दिखी। खास तौर पर बेगमगंज के सदर इमामबाड़ा में भारी संख्या में पुलिस फोर्स तैनाती रही।नवी मोहर्रम को नगर के शिया बाहुल इलाके  बलुआघाट ,कल्लू इमामबाड़ा, पान दरीबा, पुरानी बाजार, पोस्तीखाना, मुफ्ती मोहल्ला,छोटी लाइन इमामबाड़ा सहित अन्य स्थानों पर अजादारों ने पूरी रात नोहा मातम कर कर्बला के शहीदों को नज़राने अकीदत पेश किया । सुबह फज्र की नमाज के बाद अलविदा नौहा पढ़ कर इमाम हुसैन को रुखसत किया।  गौरतलब है कि 1400  साल पहले  दस मोहर्रम को हजरत इमाम हुसैन व उनके 71 साथियों को कर्बला के मैदान में  यज़ीदी हुकूमत की फौजों ने तीन दिन का भूखा प्यासा शहीद कर दिया था। यहां तक की मासूम बच्चों पर भी जुल्म करने से फौजी पीछे नहीं रहे यहाँ तक कि छह महीने के बच्चे जनाबे अली असगर को भी प्यासा शहीद कर दिया गया था जिन्हें इमाम हुसैन पानी पिलाने कर्बला के मैदान में ले कर गये थे।यही वजह है कि दसवीं मोहर्रम को यौमें आशूरा मनाया जाता है।रात भर मजलिस मातम के बाद सुबह आमाल लोगो ने अदा किया। शाम को कोविड-19 की गाइडलाइन के तहत शामे गरीबा की मजलिस इमामबाड़ा में संपन्न हुई। हर तरफ बस "या हुसैन या हुसैन "की सदा सुनाई दे रही थी।

Related

JAUNPUR 6825402805896601538

एक टिप्पणी भेजें

emo-but-icon


जौनपुर का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टल

आज की खबरे

साप्ताहिक

सुझाव

संचालक,राजेश श्रीवास्तव ,रिपोर्टर एनडी टीवी जौनपुर,9415255371

जौनपुर के ऐतिहासिक स्थल

item