खुदा के हुक्म के मुताबिक जिंदगी में अमल जरूरी:मौलाना मनाजिर

 जौनपुर। जमीने मुबारक कदम रसूल छोटी लाइन भंडारी रेलवे स्टेशन के पीछे इमामबाड़े में पंजतनी कमेटी द्वारा आयोजित होने वाली रविवार की मजलिस मरहूम सैयद अफजाल हुसैन एवं मरहूमा तैयबा बीबी के ईसाले सवाब को खेताब करते हुए मौलाना मनाजिर हसनैन खान ने कहा कि दुनिया में जो भी इंसान सच्चे मन से नेक अमल करता है उसे आखिरत में इसका सवाब जरूर मिलता है। हमें उस खुदा की बारगाह में नेक नियती से हर वोह काम करना चाहिए जिसका उसने हुक्म दिया है। आजकल कुछ लोग दुनिया में लोगों को खुश करने के लिए ऐसे काम करते हैं जिससे खुदा कभी राजी नहीं हो सकता। ऐसे में जरूरत है कि हमें खुदा के हुक्म के मुताबिक अपनी जिंदगी में अमल करना चाहिए जिससे कि बच्चों में नेक तरबियत पैदा हो।

 मौलाना मनाजिर ने कहा कि जो बच्चे अपने वालदैन को हमेशा याद करते हैं उनके घरों पर खुदा रहमत अता करता है। मरहूम के ईसाले सवाब के जरिए हम सब इमाम को याद करते हुए खुदा से उनकी मगफिरत के लिए दुआ करते हैं क्योंकि हमे यकीन है कि वोह खुदा के करीब हैं। इसलिए अपने मरहूमों को जरूर याद करते हुए फातेहा पढ़ना चाहिए जिससे कि आप के हर एक काम में खुदा की रहमत बनी रहे। मौलाना ने कर्बला में इमाम हुसैन व उनके 71 साथियों की शहादत को याद करते हुए कहा कि दीने इस्लाम को बचाने के लिए इमाम हुसैन ने अपना सबकुछ कुर्बान कर दिया पर यजीदी हुकूमत के सामने सर नहीं झुकाया। आज जो इस्लाम जिंदा है वोह उनके कुर्बानियों की देन है। मजलिस के बाद अंजुमन शमशीरे हैदरी के नौहे खां शहजादे ने अपने दर्द भरे नौहे पढ़कर माहौल को गमगीन कर दिया। इस मौके पर मौलाना शेख हसन जाफर, पूर्व सभासद शाहिद मेंहदी, नियाज हसन, अजादार हुसैन, सैयद गौहर अली जैदी, सैयद शाकिर जैदी, सैयद आमिर अब्बास, उस्मान सहित अन्य लोग मौजूद रहे। आभार सैयद हसनैन कमर दीपू ने प्रकट किया।

Related

news 8163577482928732038

एक टिप्पणी भेजें

emo-but-icon


जौनपुर का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टल

आज की खबरे

साप्ताहिक

सुझाव

संचालक,राजेश श्रीवास्तव ,रिपोर्टर एनडी टीवी जौनपुर,9415255371

जौनपुर के ऐतिहासिक स्थल

item