शुरू हुआ जनसंख्या स्थिरता पखवाड़ा, स्वास्थ्य केन्द्रों पर मिलेंगी निःशुल्क सेवाएँ

 जौनपुर। विश्व जनसंख्या दिवस को सोमवार को परिवार नियोजन परामर्श दिवस के रूप में मनाया गया। इस अवसर पर जिला अस्पताल समेत सभी प्राथमिक व सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों, स्वास्थ्य उप केन्द्रों और हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर पर परिवार को सीमित रखने और दो बच्चों के जन्म में पर्याप्त अंतर रखने के बारे में दम्पति को जागरूक किया गया। इसके अलावा जनजागरूकता रैली निकालकर समुदाय को छोटे परिवार के बड़े फायदे के बारे में सन्देश दिया गया। इस क्रम में जिलाधिकारी मनीष कुमार वर्मा ने सोमवार को जिला महिला अस्पताल में जनसंख्या दिवस पर बड़ी संख्या में लाभार्थियों को परिवार नियोजन के साधन उपलब्ध कराये।

                    जिलाधिकारी ने प्रसव के बाद (पोस्टपार्टम) नसबंदी कराने आईं मोहम्मदपुर बरसठी की शिवानी (28) से परिवार, बच्चों तथा नसबंदी कराने के निर्णय के बारे में जानकारी ली। शिवानी ने बताया कि उनके दो बच्चे हैं। अब बच्चे की चाह न होने पर नसबंदी कराने का निर्णय लिया है। अलीपुर जफराबाद की रिजवाना अंसारी (22) तिमाही गर्भनिरोधक इंजेक्शन अंतरा लगवाने आईं थीं। उन्होंने बताया कि उनके दो बच्चे हैं। एक तीन साल का है जबकि दूसरा एक महीने का है। वह जिस परिवार में रहती हैं वह परिवार बड़ा है। अब और बच्चे नहीं चाहतीं हैं, इसलिए अंतरा लगवा रही हैं। इसके अलावा डीएम ने कई लाभार्थियों से बातकर उनके परिवार, स्वास्थ्य और निर्णय के संबंध में जानकारी ली। इसके साथ ही लाभार्थियों से पहले से दूसरे बच्चे के बीच कम से कम तीन वर्ष का अंतर रखने की सलाह दी। इस मौके पर डीएम और सीएमओ डॉ लक्ष्मी सिंह ने बास्केट आफ चॉइस से कई महिला लाभार्थियों को उनके अनुसार परिवार नियोजन के साधन उपलब्ध कराए। जिला महिला अस्पताल में लगे परिवार नियोजन के काउंटर पर बड़ी संख्या में महिला स्वास्थ्यकर्मी मौजूद थीं। सोमवार को जिला महिला अस्पताल में दो महिला नसबंदी हुई। पांच महिलाओं ने अंतरा इंजेक्शन लगवाया। दो को आईयूसीडी, नौ पीपीआईयूसीडी तथा 45 को गर्भनिरोधक गोली छाया से लाभान्वित किया गया।
                  सीएमओ ने बताया कि सोमवार से जनसंख्या स्थिरता पखवाड़ा की शुरुआत की गयी। यह पखवाड़ा 24 जुलाई तक मनाया जाएगा। इस दौरान आमलोगों को संवेदीकृत करने के लिए विभिन्न स्तरों पर व्यापक प्रचार-प्रसार किया जाएगा। पखवाड़ा के दौरान हर दिन सभी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों (सीएचसी), प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों (पीएचसी) तथा हेल्थ वेलनेस सेंटर (एचडब्ल्यूसी) पर परिवार नियोजन के सभी साधनों का काउंटर बनाया जाएगा। प्रतिदिन पांच बजे ब्लाक कार्यक्रम प्रबंधक (बीपीएम) जिले को इसकी रिपोर्ट भेजेंगे ताकि यह रिपोर्ट समय से स्टेट आफिस को भेजी जा सके। नोडल अधिकारी पर ही पखवाड़ा के दौरान पर्याप्त मात्रा में गर्भनिरोधक सामाग्री एवं आवश्यक संसाधन (लाजिस्टिक) उपलब्ध कराने की जिम्मेदारी है। इसके साथ ही ब्लॉक स्तर से एएनएम, सामुदायिक स्वास्थ्य अधिकारी (सीएचओ), आशा कार्यकर्ता एवं सामुदायिक स्तर के कार्यकर्ताओं से वितरण भी सुनिश्चित कराना है। परिवार नियोजन के सभी संसाधनों की पर्याप्त मात्रा में उपलब्धता सुनिश्चित करें।
               परिवार नियोजन कार्यक्रम के नोडल अधिकारी तथा एसीएमओ डॉ राजीव कुमार ने बताया कि फॅमिली प्लानिंग लोजीस्टिक पोर्टल के माध्यम से क्षेत्रीय कार्यकर्ताओं को लाजिस्टिक की उपलब्धता तथा सामुदायिक गतिविधियों में एएनएम और आशा की भूमिका के लिए ब्लॉक सामुदायिक प्रक्रिया प्रबंधक (बीसीपीएम) को जिम्मेदारी दी गई है। उन्हें ही ब्लाक स्तर पर मानीटरिंग के लिए नामित किया गया है। उनके अधीन स्वास्थ्य शिक्षा अधिकारी (एचईओ), ब्लाक कार्यक्रम प्रबंधक (बीपीएम), एएनएम, आशा कार्यकर्ता, आशा संगिनी हैं। उन्हें सूचित करना है कि इच्छुक महिला एवं पुरुष नसबंदी के लाभार्थियों का चिकित्सा इकाई में पंजीकरण कराकर ब्लाक स्तरीय नियत सेवा दिवसों पर अथवा जिला महिला /पुरुष चिकित्सालय भेजकर उन्हें लाभान्वित कराएं। जिला पुरुष चिकित्सालय में महिला एवं पुरुष नसबंदी की सेवाएं प्रतिदिन मिलतीं हैं। विश्व जनसंख्या दिवस संबंधी सभी गतिविधियां कोविड-19 के सभी प्रोटोकॉल जैसे सोशल डिस्टैंसिंग, मास्क पहनकर और सेनेटाइजर का उपयोग करते हुए की जाएंगी।
              एसीएमओ ने बताया कि जनपद के 518 स्वास्थ्य केन्द्रों पर कंडोम पेटिका (कंडोम बाक्स) की व्यवस्था की गयी है। शेष 71 स्वास्थ्य केन्द्रों पर इसकी स्थापना के निर्देश दे दिये गए हैं । कंडोम का इस्तेमाल साल दर साल बढ़ा है । वर्ष 2018-19 में 4,07,822 , वर्ष 2019-20 में 3,32,702, वर्ष 2020-21 में 3,38,547 कंडोम सरकारी क्षेत्र से इस्तेमाल हुए। जिले में वित्तीय वर्ष 2018-19 में 41 पुरुषों ने नसबंदी करवाई और वर्ष 2019-20 में 43 पुरुषों ने नसबंदी करवाई । वर्ष 2020-21 में 77 पुरुषों ने नसबंदी करवाई वहीं वर्ष 2021-22 में 78 पुरुषों ने नसबंदी करवाई है।
               इस अवसर पर डॉ प्रभात कुमार, चीफ मेडिकल सुपरिटेंडेंट (सीएमएस) डॉ तवस्सुम, डीपीएम सत्यव्रत त्रिपाठी, डॉ संदीप कुमार, यूपीटीएसयू के जिला प्रतिनिधि सहित बड़ी संख्या में स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी और कर्मचारी मौजूद रहे।

Related

जौनपुर 3612428546459707475

एक टिप्पणी भेजें

emo-but-icon


जौनपुर का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टल

आज की खबरे

साप्ताहिक

सुझाव

संचालक,राजेश श्रीवास्तव ,रिपोर्टर एनडी टीवी जौनपुर,9415255371

जौनपुर के ऐतिहासिक स्थल

item