आरक्षण का लिस्ट जारी होते ही गरमाई राजनीति, दिनेश टण्डन ने फिर ठोकी दावेदारी

 

जौनपुर। नगर निकाय चुनाव के लिए आरक्षण की लिस्ट जारी होते ही जौनपुर नगर पालिका क्षेत्र की जनता की जुबान से टंडन , टंडन, टंडन घंटी बजनी शुरू हो जाती है, हर चट्टी चौराहे और चाय पान की दुकानों के अलावा कही भी पर यदि नगर पालिका चुनाव की चर्चा होती है तो उसमें सबसे पहला नाम दिनेश टण्डन का ही आता है। दिनेश टण्डन अपने कार्य और सरल स्वभाव के चलते लगातार 22 वर्षो से नगर पालिका परिषद पर राज कर रहे है। इतना ही नही इस सिंघासन पर अपनी पत्नी माया टण्डन को भी बैठाने में कामयाब हुए है।

सोमवार की शाम नगर निकाय चुनाव के लिए आरक्षण की सूची जारी हो गई। इस लिस्ट जिले की शाहगंज , जौनपुर और मुंगराबादशाहपुर नगर पालिका परिषद सीट सामान्य घोषित की गई है । वही जफराबाद नगर पंचायत महिला, रामपुर पिछड़ा वर्ग, गौराबादशाहपुर अनुसूचित जाति, कचगांव सामान्य, बदलापुर पिछड़ा वर्ग महिला, मड़ियाहूं, केराकत और खेतासराय महिलाओं के लिए आरक्षित की गई है और मछलीशहर नगर पंचायत अनारक्षित घोषित किया गया है ।

आरक्षण की सूची जारी होने के बाद मिनी विधानसभा की राजनीति गर्मा गई है , जारी सूची ने कइयों का सपना चकनाचूर कर दिया है। 

जौनपुर नगर पालिका अनारक्षित होने से कमल दल वालो में कही ख़ुशी तो कही गम है। फिलहाल यह सीट सामान्य होने से एक बार फिर दिनेश टण्डन सुर्खियों में आ गए है। मतदाताओं से लेकर सभी दलों के नेताओ तक सबसे मजबूत प्रत्यासी मान रहे है। इसका मुख्य कारण है व्यापारी नेता दिनेश टण्डन पहली बार सन 2000 में बसपा के हाथी पर सवार होकर चुनाव मैदान में उतरे तो जनता ने उन्हें अपना आशीर्वाद देकर चेयर मैन चुन लिया , कुर्सी मिलने के बाद टण्डन हवा में उड़ने के बजाय जनता के बीच रहे , 2006 में बीएसपी ने अपना समर्थित प्रत्यासी बनाया  उन्हें चुनाव निशान पतंग मिला, जनता पतंग को और ऊंचाइयों पर भेजने के लिए अपना बहुमूल्य वोट देकर पुनः अध्यक्ष बनाया, हालांकि इस चुनाव में उनके पतंग की डोर को काटने का भरपूर प्रयास तत्कालीन अधिकारियों ने किया था लेकिन जनता के आशीर्वाद के चलते प्रशासन का प्रयास विफल हो गया , 2012 के चुनाव में दिनेश टण्डन को चुनाव निशान लटटू मिला इस बार भी जनता टण्डन के कार्यो से प्रभावित होकर अपना भरपुर समर्थन देकर टण्डन के जीत की हैट्रिक लगवा दी। 

2017 चुनाव में यह सीट सामान्य महिला के लिए आरक्षित हो गई तो टण्डन अपनी पत्नी माया टण्डन को बीएसपी की हाथी पर सवार करके  मैदान में उतारा तो जनता उन्हें भी अपना आशीर्वाद देकर चेयर मैन चुन लिया। 

आज शाम को लिस्ट जारी होते ही दिनेश टण्डन ने एक बार फिर बसपा से मैदान में ताल ठोक दिया है । 

 दिनेश टण्डन 22 वर्षो के कार्यकाल में हर जाति धर्म मे अपनी अच्छी पैठ बना लिया है। जिसके चलते उनकी स्थिति काफी मजबूत मानी जा रही है , जब तक बीजेपी , सपा व अन्य पार्टियां अपने उम्मीदवारो का चयन करेंगी तब तक टण्डन पूरे क्षेत्र के मतदाताओं से सम्पर्क कर लेंगे।





Related

डाक्टर 2467560031214317400

एक टिप्पणी भेजें

  1. इस बार टंडन जी अपनी सीट नहीं बचा पाएंगे इस बार भाजपा के अरुण सिन्हा एडवोकेट से टक्कर होगी

    जवाब देंहटाएं

emo-but-icon


जौनपुर का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टल

आज की खबरे

साप्ताहिक

सुझाव

संचालक,राजेश श्रीवास्तव ,रिपोर्टर एनडी टीवी जौनपुर,9415255371

जौनपुर के ऐतिहासिक स्थल

item