शरद यादव हमेशा पिछड़े दलितों की लड़ाई लड़ा करते थें

 

जौनपुर । जंगी महाविद्यालय असबरनपुर में पूर्व केंद्रीय मंत्री शरद यादव के निधन के उपरांत श्रधांजलि सभा का आयोजन किया गया। वहीं केराकत विधायक तूफानी सरोज कहा शरद यादव आरक्षण के जनक थें, शरद यादव हमेशा पिछड़े दलितों की लड़ाई लड़ा करते थें जब वह सदन में खड़े होकर पिछड़े दलित के हक अधिकार की मांग करते थे तो पूरे देश में उनकी आवाज गुजती थी सदन में पूरी तरह से सन्नाटा हो जाता था और लोग बड़ी गंभीरता से उनकी बातों को सुनते थें कि शरद यादव बोल रहे हैं कोई नया पन सदन में आने वाला है उन्हें देश के सर्वश्रेष्ठ सांसद के रूप में सम्मानित किया गया था आज भले शरद यादव हमारे बीच में नहीं है लेकिन उनके कीर्ति हमेशा हमेशा के लिए अमर रहेगा शरद यादव के राजनीतिक जीवन का चरम बिंदु 1989 में तत्कालीन वीपी सिंह सरकार में मंत्री रहते हुए पिछडों  को नौकरी व शिक्षा में आरक्षण की सिफारिश करने वाली मंडल आयोग की रिपोर्ट लागू करवाना था और वीपी सिंह सरकार के मंत्रिमंडल में दो युवा सहयोगियों में शरद यादव और रामविलास पासवान ने उन पर दबाव डालकर आरक्षण लागू करवाया था शरद यादव को  भारत की राजनीतिक सामाजिक इतिहास में मुख्यतः समाजवाद की उस धारा को निर्णायक मोड़ देने के लिए याद किया जाएगा जिसमें सामाजिक न्याय का मुद्दा आर्थिक समता से कहीं ज्यादा अहम था सामाजिक चिंतक डॉ राम मनोहर लोहिया कहा करते थें कि भारत में वर्ग संघर्ष वास्तव में जाति संघर्ष के रूप में है यानी जब तक जातिवाद नहीं मिटेगा, तब तक देश में आर्थिक समानता केवल सपना है शरद यादव कट्टर समाजवादी थें श्रद्धांजलि सभा में मुख्य रूप से पूर्व सपा जिला अध्यक्ष डॉ अवधनाथ पाल पूनम मौर्या संजय राजभर जियाउल हक सुरेश यादव हरिराम यादव, इश पटेल आदि लोग मौजूद रहे ।

Related

जौनपुर 238156847135664005

एक टिप्पणी भेजें

emo-but-icon


जौनपुर का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टल

आज की खबरे

साप्ताहिक

सुझाव

संचालक,राजेश श्रीवास्तव ,रिपोर्टर एनडी टीवी जौनपुर,9415255371

जौनपुर के ऐतिहासिक स्थल

item