ग्रामीण इलाकों में मकर संक्रांति की तैयारियां जोरों पर, देशी व्यंजन बनाने में जुटी महिलाएं

 

जौनपुर। मकर संक्रांति का पर्व जैसे -जैसे करीब आता जा रहा है। पर्व की तैयारियों को लेकर लोगों में उत्साह देखा जा रहा है। आधुनिकता ने भले ही पर्व की रुप रेखा बदल दी हो, फिर भी परम्पराओं का प्रभाव देखते बन रहा है। मछलीशहर तहसील क्षेत्र की हर छोटी बड़ी बाजार चाहे वह जंघई, मीरगंज, बंधवा बाजार,खाखोपुर, सतहरिया, मुंगराबादशाहपुर, मछलीशहर, सुजानगंज,जमुहर,गोधना हो सबमें लाई,चिवरा, गुड़,लेडुआ, ढूंढ़ी,पिटिउरा, तिलवा के रेडीमेड व्यंजनों से बाजार सजा हुआ है।

 शहरी क्षेत्रों में ज्यादातर लोग इस पर्व के लिए अपनी जरूरत की चीजें बाजार से खरीद लेते हैं लेकिन ग्रामीण इलाकों में गृहणियों एवं बच्चों को इस पर्व को लेकर उत्साह रहता है और ग्रामीण इलाकों की औरतें बाजारों से पर्व की सामग्री खरीदने के बजाय खुद ही इसे तैयार करने पर जोर देती हैं ।वे लेडुआ, ढूंढ़ी, तिलकुट और ढूंढा घर के चूल्हे पर तैयार करतीं हैं। ग्रामीण इलाकों में धान कूट कर चूरा बनाने की मशीनें धूआंधार चल रही हैं।धान रखने पर कुटाई के लिए दूसरे दिन नम्बर मिल रहा है। कृषि प्रधान उल्लासमयी भारतीय संस्कृति में कृषक वर्ग इस पर्व को बहुत उत्साह पूर्वक मनाता है।

वर्षों पुरानी परंपरा को कायम रखते हुए लोग अपने बहन- बेटियों के यहां खिचड़ी पहुंचाने में जुटे हुये हैं। भीषण ठंड के बावजूद लोग बाइक पर पीछे बोरी बांधे हुए सड़कों पर दौड़ रहें हैं। यात्री बसों की छतों पर खिचड़ी के बोरी काफी ऊपर तक बंधी हुई है। जिससे जैसे बन पड़ रहा है वैसे खिचड़ी पहुंचाने की जद्दोजहद में शामिल है। सामान्य जनमानस में मकर संक्रांति केवल एक खगोलीय घटना ही नहीं है बल्कि इसके धार्मिक, सामाजिक और मनोवैज्ञानिक महत्व हैं।

Related

जौनपुर 6940034069775500634

एक टिप्पणी भेजें

emo-but-icon


जौनपुर का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टल

आज की खबरे

साप्ताहिक

सुझाव

संचालक,राजेश श्रीवास्तव ,रिपोर्टर एनडी टीवी जौनपुर,9415255371

जौनपुर के ऐतिहासिक स्थल

item