मंत्री और एसडीएम के आश्वासन के बाद भी छह माह की बच्ची तीन दिन से दूध के लिए तड़फ रही है

जौनपुर।  सरायख्वाजा थाना क्षेत्र के पकड़ी गांव में गत 12 व 13 मई को कोरोना संक्रमण से दंपती की मौत हो गई थी। इससे छह नाबालिग बच्चों के सिर से मां-बाप का साया उठ गया। इसमें छह माह की एक दूधमुंही बच्ची भी है। जिसको दूध मुहैया कराने के लिए राज्यमंत्री व एसडीएम शाहगंज ने आश्वासन दिया, लेकिन तीन दिन बाद भी दूध बच्ची को नहीं मिल सका। किसी तरह ग्रामीण व्यवस्था करा रहे हैं।  
 सोमवार को राज्यमंत्री गिरीश चंद यादव, एसडीएम शाहगंज राजेश वर्मा छह अनाथ नाबालिग बच्चों को आर्थिक सहायता देने के लिए गांव पहुंचे थे। उन्होंने एक लाख रुपये नकद राशि व चार बिस्वा जमीन का प्रमाण पत्र सौंपा। दो बच्चियों की पढ़ाई की जिम्मेदारी श्रम विभाग को दी। इस दौरान जुटी भीड़ से महिलाओं ने राज्यमंत्री व एसडीएम से छह माह के बच्ची के दूध के इंतजाम कराए जाने की बात कही। सभी ने एक सुर से अगले दिन दूध का इंतजाम हो जाने का भरोसा दिलाया।
 एसडीएम ने तो बाकायदा इसकी जिम्मेदारी हल्का कानूनगो को दे दिया। तीन दिन बीतने के बाद वादा हवा-हवाई साबित हुआ। इसकी जानकारी के लिए राज्यमंत्री गिरीश चंद्र यादव को कई बार फोन किया गया, लेकिन उनसे संपर्क नहीं हो सका। एसडीएम शाहगंज राजेश वर्मा के मोबाइल पर कई बार पूरी घंटी गई, लेकिन फोन नहीं उठा। उनके नजदीकियों से जब संपर्क किया गया तो पता चला कि वह किसी निजी कार्यक्रम के लिए छुट्टी पर हैं।  
सभार जागरण 

Related

JAUNPUR 3057959004801867940

एक टिप्पणी भेजें

emo-but-icon


जौनपुर का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टल

आज की खबरे

साप्ताहिक

सुझाव

संचालक,राजेश श्रीवास्तव ,रिपोर्टर एनडी टीवी जौनपुर,9415255371

जौनपुर के ऐतिहासिक स्थल

item