बरखू राम को मौत के घाट उतारने वाला हिस्ट्रीशीटर 15 दिन पहले जेल से छूटा था

  जौनपुर।  नि:संतान बरखू राम यादव के हिस्से की जमीन-जायदाद ही उनकी हत्या का कारण बन गई। हत्यारोपित थाने का हिस्ट्रीशीटर पौत्र शातिर अपराधी राम सिंह यादव पर लूट, छिनैती, हत्या के प्रयास सहित कई संगीन मुकदमे दर्ज हैं। 15 दिन पहले ही वह जेल से छूटकर आया था। 

 मृत बरखू यादव (75) की पत्नी का भी एक वर्ष पूर्व निधन हो गया था। उन्होंने अपने साले की बेटी खुशबू को सेवा टहल के लिए अपने घर पर रखा था। उसकी शादी भी उन्होंने खुद की थी। लगभग दो माह पूर्व उन्होंने अपने हिस्से की भूमि में से दस बिस्वा खुशबू के नाम बैनामा कर दिया था। उनके हिस्से की भूमि पर भतीजों की नजरें गड़ी थी। जमीन का बैनामा करने के बाद से भतीजे रमा शंकर यादव, श्याम बिहारी व बृज बिहारी उनसे नाराज चल रहे थे। इसी मामले को लेकर रमाशंकर के हिस्ट्रीशीटर पुत्र राम सिंह यादव ने अपने दो अन्य साथियों संग मिलकर गांव में सरेआम दादा बरखू राम यादव को मौत के घाट उतार दिया। गांव में चर्चा है कि जमानत पर जेल से छूटकर आने के बाद से ही राम सिंह यादव बरखू राम को ठिकाने लगने के लिए जुट गया था। तलाश में संभावित स्थानों पर दबिश दे रही पुलिस पास-पड़ोस के जिलों से भी राम सिंह यादव का आपराधिक रिकार्ड जुटा रही है।

Related

news 4716128986351988971

टिप्पणी पोस्ट करें

emo-but-icon


जौनपुर का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टल

आज की खबरे

साप्ताहिक

सुझाव

संचालक,राजेश श्रीवास्तव ,रिपोर्टर एनडी टीवी जौनपुर,9415255371

जौनपुर के ऐतिहासिक स्थल

item