न दिखने वाले जीवाणु होते हैं खतरनाक : डा. तूलिका मौर्या

जौनपुर। यह बिल्कुल गलत मान्यता है कि दांत निकालने से आंख की रोशनी कम हो जाती है, क्योंकि दांत व आंखों की नसें अलग होती हैं। यदि योग्य चिकित्सक से सही तरीके से दांत निकलवाया जाय तो आंखों की रोशनी पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता है। दांतों में दर्द होने, काला पड़ने, सूजन आने, ठडा-गरम पानी लगने, हिलने पर तत्काल चिकित्सक से सम्पर्क करना चाहिये जिससे समय रहते बीमारी का उपचार हो सके। उक्त बातें नगर के रूहट्टा स्थित केयर डेंटल स्पेशयलिटी सेण्टर पर रविवार को आयोजित निःशुल्क दंत परीक्षण शिविर में आये सैकड़ों मरीजों एवं उनके परिजनों के बीच दंत रोग विशेषज्ञ डा. गौरव प्रकाश मौर्य ने कही। इसी क्रम में डा. तूलिका मौर्या ने दांत निकालने से कैंसर की भ्रामक बातों को इनकार करते हुये कहा कि पहले से मुंह में कैंसर होने पर अयोग्य चिकित्सक से बिना ठीक से परीक्षण किये दांत निकालने पर कैंसर की संभावना अवश्य होती है। दांत में लगने वाले कीड़े एक जीवाणु होते हैं जिन्हें नंगी आंखों से नहीं देखा जा सकता है, इसलिये झाड़-फूंक के चक्कर में न पड़कर उपचार कराना चाहिये। शिविर में आये कुल 100 मरीजों का निःशुल्क दंत परीक्षण कर उन्हें उचित सलाह देते हुये दवा भी वितरित किया गया। इस दौरान लखनऊ से आये मंसूड़ों के विशेषज्ञ डा. प्रफुल्ल दास गुप्ता ने लोगों से दिन में कम से कम दो बार ब्रश करने की सलाह दिया। साथ ही उन्होंने बताया कि कई प्रमुख बिमारियां जैसे- हृदय रोग, डायबिटीज, सांस की बीमारी, अस्थमा, गर्भ के दौरान जच्चा-बच्चा में स्वास्थ्य पायरिया जैसी बीमारियों से सीधा सम्बन्ध होता है। ऐसे में उसका निदान अत्यन्त आवश्यक है। इस अवसर पर विवेक सिंह, अजीत कुमार, संजय मौर्य, राहुल, सुनील कुमार सहित तमाम चिकित्सक, स्टाफकर्मी, सहयोगी, गणमान्य लोग उपस्थित रहे।

Related

स्वास्थ 3714966891462952034

टिप्पणी पोस्ट करें

emo-but-icon


जौनपुर का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टल

आज की खबरे

साप्ताहिक

सुझाव

संचालक,राजेश श्रीवास्तव ,रिपोर्टर एनडी टीवी जौनपुर,9415255371

जौनपुर के ऐतिहासिक स्थल

item