12 साल बाद पुन: गति पकड़ा 53 फर्जी शिक्षकों का मामला

जौनपुर।  जनपद के 53 फर्जी शिक्षकों का फाइलों में दफन मामला 12 साल बाद पुन: गति पकड़ लिया है। शासन के कड़े रुख का असर है कि सोमवार को आर्थिक अपराध अनुसंधान शाखा (ईओडब्लू) वाराणसी की टीम बीएसए कार्यालय पहुंची। पटल देख रहे बाबू के अवकाश पर रहने के कारण बैरंग लौट गई। टीम मंगलवार को पुन: आएगी।
 वर्ष 2001 से 2003 तक परिषदीय विद्यालयों में नियुक्त शिक्षक गैर जनपद के स्थानांतरण कराकर जनपद में आए थे। इनके शैक्षिक प्रमाण पत्र फर्जी होने की शिकायत पर शासन के निर्देश के बाद जांच कराई गई। जांच में आरोप सही मिलने पर 30 शिक्षकों को बर्खास्त करके तत्कालीन बेसिक शिक्षा अधिकारी विनोद राय ने लाइन बाजार थाने में मुकदमा पंजीकृत कराया। आठ करोड़ रुपये से अधिक वेतन भुगतान व अन्य मामलों की जांच ईओडब्लू को सौंपी गई थी। खामी का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि 12 साल बाद भी जांच पूरी नहीं हो पाई। इस दौरान कई विवेचक बदले गए और कई बार टीम आकर पूछताछ की। आरोप है कि विभाग के घाघ बाबुओं व तत्कालीन अधिकारियों ने न तो जांच में मदद की और न ही अभिलेख सौंपे। असहयोग के चलते मामला फाइलों में दफन हो गया था।


Related

जौनपुर 3146605148199582296

Post a comment

emo-but-icon


जौनपुर का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टल

आज की खबरे

साप्ताहिक

सुझाव

संचालक,राजेश श्रीवास्तव ,रिपोर्टर एनडी टीवी जौनपुर,9415255371

जौनपुर के ऐतिहासिक स्थल



item