सोशल मीडिया के प्रति लोगों को भ्रमित किया जाता है | एस एम मासूम

सोशल मीडिया की जब चर्चा कहीं भी होती है तो उसे पत्रकारिता से जोड़ दिया जाता है जबकि यह दोनों एक दुसरे से इतने अलग है की यह चर्चा करना ही मूर्खता है की सोशल मीडिया और पत्रकारिता का कोई टकराव है या नहीं है | सत्य ये ही की सोशल मीडिया की लोकप्रियता बढ़ने से पत्रकारिता से जुड़े लोगों के बीच कुछ लोग अज्ञानता वश यह भ्रम पाल लेते हैं की सोशल मीडिया की लोकप्रियता  से पत्रकारिता को कोई बड़ा नुकसान होने वाला है जबकि सत्यता स बहुत अलग है |  अब जब लोग चर्चा करने ही लगे हैं तो हम जैसे जिनसे समाज सोशल मीडिया जैसे विषयों पे बोलने की आशा लिए रहता है बोलना ही पड़ता है |

 https://www.youtube.com/payameamnपत्रकारिता की कमान इस विषय के जानकार लोगों के हाथों में हुआ करती है और समय के साथ साथ इसने भी विकास किया है |कभी प्रिंट मीडिया का ज़माना था तो आज इलेक्ट्रॉनिक मीडिया का युग है और वेब - पत्रकारिता ने प्रिंट मीडिया को हाशिये पे ला के खड़ा कर दिया है | आज वेब पत्रकारिता पूरी तरह से  लेखनी फोटो और वीडियो का एक साथ एक ही स्थान पे एक ही खबर को  तक पहुंचाने की ताक़त रखती है और सोशल मीडिया इस वेब पत्रकारिता के सहयोगी की तरफ से काम कर रही है | 

इस तरह आप कह सकते हैं की पत्रकारिता को सोशल मीडिया के सहयोग से अधिक शक्ति प्राप्त हुयी है ना  की कोई टकराव पैदा हुआ है | 

लेखक 
एस एम मासूम 

Related

social media 9189503895854158807

टिप्पणी पोस्ट करें

emo-but-icon


जौनपुर का पहला ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टल

आज की खबरे

साप्ताहिक

सुझाव

संचालक,राजेश श्रीवास्तव ,रिपोर्टर एनडी टीवी जौनपुर,9415255371

जौनपुर के ऐतिहासिक स्थल

item